फल-फ्रूट्स खाना हम सभी को पसंद होता है। लेकिन अक्सर हम इनके चयन में गलती कर बैठते हैं। हमें इस बात को अच्छी तरह समझना और परखना सीखना होगा कि कब, क्या और किस तरह खाना चाहिए ताकि फलों का पूरा फायदा हमारे शरीर को मिले...
हमारा जीवन तीन चीजों पर आधारित है। इनमें शरीर, दिमाग और आत्मा सम्मिलित हैं। जीवन के इन तीनों आधारों को संबल देते हैं, अच्छा भोजन, अच्छी नींद और सकारात्मक सोच। हमारा शरीर उस समय सबसे अच्छे तरीके से काम कर पाता है, जब वह पूरी तरह स्वस्थ हो। ऐसे ही हमारा मन तब बहुत अच्छा परिणाम दे पाता है, जब वह पूरी तरह तनावमुक्त हो। लेकिन आज के समय में हमारी जो जीवनशैली है, उसमें हर दिन स्वस्थ शरीर और तनावमुक्त दिमाग रख पाना लगभग असंभव है...
-फल खरीदना भी एक कला है। वो लोग वास्तव में बहुत किस्मतवाले हैं, जिन्हें बचपन में अपने दादी-दादाजी के साथ बाजार घूमने और खरीदारी करने का अवसर मिला। क्योंकि वास्तविक जीवन की जो शिक्षा हमें अपने बड़ों से मिल सकती है, वो किसी भी किताब से हासिल कर पाना संभव नहीं है।
हर दिन इतनी मात्रा में खाएं देसी घी, बुलेट स्पीड से दौड़ेगा दिमाग
-यही बात फलों को खरीदने में भी लागू होती है। फल हमेशा मौसम के हिसाब से खरीदने चाहिए। मतलब, आजकल बाजार में स्टोर किए हुए फल और सब्जियां सब कुछ मिलता है। हर फल और सब्जी को आप हर सीजन में खरीद सकते हैं। लेकिन इसका अर्थ यह बिल्कुल नहीं है कि ये फल और सब्जियां आपको लाभ भी पहुंचाएंगे।
-बिना मौसम के फल और सब्जियों को स्टोर करके रखना और फिर विपरीत मौसम में उनका सेवन करना, एक तरह से प्रकृति के विपरीत जानेवाली बात है। क्योंकि प्रकृति हमें मौसम के हिसाब से वे फल और सब्जियां देती है, जो हमारे शरीर को पोषण देकर उसे स्वस्थ रख सके।
फल खाने का सही तरीका
-फलों को हमेशा तबी खाना चाहिए, जब वे ताजे हों। उन्हें कई दिन रखकर खाने से हानि तो कुछ नहीं होती है लेकिन फल खाने का पूरा लाभ नहीं मिल पाता है। क्योंकि रखे हुए फल जैसे-जैसे पुराने होते जाते हैं, वैसे-वैसे उनकी पोषण क्षमता कम होती जाती है।
-फलों को हमेशा धुलकर ही खाना चाहिए। कोशिश करें जिन फलों को आप छिलके सहित खा सकते हैं, उन्हें छिलके के साथ ही खाएं। जैसे सेब, नाशपाती, अमरूद, चीकू आदि। इन फलों के छिलके फाइबर युक्त होते हैं और इनमें बड़ी मात्रा में पोषण होता है।
-फलों को काला नमक लगाकर खाने से फल का स्वाद तो बढ़ ही जाता है, साथ ही हमारा पाचन भी बेहतर होता है। काला नमक सुपाच्य होता है और हमारे पेट को साफ करने में सहायक होता है। फलों से मिलनेवाला फायबर पेट में जमा गंदगी को साफ करता है तो काला नमक कोशिकाओं के पोषण में सहायता करता है।
फल खाने का सही समय
-फलों को कभी भी खाने के साथ या खाने के तुरंत बाद नहीं खाना चाहिए। फल खाने का सबसे अच्छा समय सुबह नाश्ते के बाद और लंच से पहले का वक्त होता है। इसके अलावा आप दोपहर के खाने और रात के भोजन के बीचवाले वक्त में भी फल खा सकते हैं।
-कोशिश करें कि जो भी फल खाएं उसे सूर्य छिपने से पहले खा लें। क्योंकि ज्यादातर फलों में नैचरल शुगर होती है। यह हमारे शरीर को ऊर्जा देने का काम करती है। रात के समय फल खाने से हम उस ऊर्जा का उपयोग नहीं कर पाते हैं तो उस एनर्जी के कारण हमें समय पर नींद नहीं आ पाती है।