बेंगलुरु: आत्मनिर्भर भारत के लिए आज ऐतिहासिक दिन है. अतंरिक्ष में भी जय हिंद गूंजेगा. इसरो का पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल इस बार अपने साथ सैटेलाइट के अलावा भगवद गीता की एक इलेक्ट्रॉनिक कॉपी लेकर उड़ान भरने की तैयारी कर चुका है. एक नैनो सैटेलाइट पर PM नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की तस्वीर भी होगी. सुबह 10 बजकर 24 मिनट पर श्रीहरिकोटा से PSLV-C51/Amazonia-1 की लॉन्चिंग होगी. यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का 2021 में पहला प्रक्षेपण है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर
इसरो ने एक बयान में बताय कि पीएसएलवी-सी51 (PSLV-C51) पीएसएलवी का 53वां मिशन है. इस रॉकेट के जरिए ब्राजील के अमेजोनिया-1 उपग्रह के साथ 18 अन्य उपग्रह भी अंतरिक्ष में भेजे जाएंगे. इस रॉकेट को चेन्नई से करीब 100 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपित किया जाएगा. इन उपग्रहों में चेन्नई की स्पेस किड्ज इंडिया (SKI) का सतीश धवन एसएटी (एसडी एसएटी) शामिल है. इस अंतरिक्ष यान के शीर्ष पैनल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की तस्वीर उकेरी गई है. इसके अलावा इंडियन स्‍पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) के चेयरपर्सन डॉक्टर के सिवन और वैज्ञानिक सचिव डॉक्टर आर उमामहेश्वरन का नाम नीचे के पैनल पर लिखा गया है. एसकेआई ने कहा, 'यह उनकी (प्रधानमंत्री की) आत्मानिर्भर पहल और अंतरिक्ष निजीकरण के लिए एकजुटता और आभार व्यक्त करने के लिए है.'

डिजिटल गीता और 25 हजार भारतीयों के नाम
एसकेआई एसडी (सुरक्षित डिजिटल) कार्ड में डिजिटल भगवद गीता भी भेज रहा है साथ ही यह सैटेलाइट 25 हजार भारतीय लोगों के नाम लेकर अंतरिक्ष में जाएगा. इसरो की वाणिज्य इकाई न्यूस्पेस इंडिया लिमिटिड (NSIL) के लिए भी यह खास दिन है. इसरो का मुख्यालय बेंगलुरु में है. पीएसएलवी (पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) सी51/अमेजोनिया-1 एनएसआईएल का पहला समर्पित वाणिज्यिक मिशन है जिसक प्रक्षेपण अमेरिका के सिएटल की उपग्रह राइडशेयर एवं मिशन प्रबंधन प्रदाता स्पेसप्लाइट इंक के वाणिज्य प्रबंधन के तहत किया जा रहा है. एनएसआईएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक जी नारायण ने बताया, 'हम प्रक्षेपण का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. हमारे लिए ब्राजील निर्मित पहला उपग्रह प्रक्षेपित करना गर्व की बात है.'

अमेजोनिया-1 ब्राजील का पहला उपग्रह
637 किलोग्राम वजनी अमेजोनिया-1 ब्राजील का पहला उपग्रह है जिसे भारत से प्रक्षेपित किया जाएगा. यह राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (INPI) का ऑप्टिकल पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है. अमेजोनिया-1 के बारे में इसरो ने बयान में बताया कि यह उपग्रह अमेजन क्षेत्र में वनों की कटाई की निगरानी और ब्राजील के क्षेत्र में विविध कृषि के विश्लेषण के लिए उपयोगकर्ताओं को दूरस्थ संवेदी आंकड़े मुहैया कराएगा तथा मौजूदा ढांचे को और मजबूत बनाएगा.