भोपाल. कांग्रेस के दिग्गज नेता और राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव (MP Assembly Byelection 2020) के तहत ग्वालियर-चंबल इलाके (Gwalior-Chambal Region) में पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ कई बैठकें करेंगे. पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ (Kamalnath) के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने शनिवार को बताया कि पायलट 27 और 28 अक्टूबर को शिवपुरी जिले के नरवर और सतनवाड़ा में, मुरैना जिले के सुमावली व भिंड और ग्वालियर जिले में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे.

सलूजा ने बताया कि इसके अलावा पायलट मुरैना विधानसभा सीट के नूराबाद क्षेत्र में, दिमनी विधानसभा क्षेत्र के मनबसाई में, गोरमी (मेंहगांव सीट) और गोहद में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठकों में शामिल होंगे. इसके अलावा सचिन पायलट 28 अक्टूबर को ग्वालियर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे.

राजनीतिक पर्यवक्षेकों ने बताया कि 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में 16 सीटें ग्वालियर-चंबल इलाके में आती हैं. इस क्षेत्र में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में गए राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का काफी प्रभाव माना जाता है. इन सीटों पर गुर्जर समुदाय का भी प्रभाव है और पायलट इसी समुदाय से आते हैं. स्पष्ट है कि कांग्रेस पार्टी ने इस सब वजहों को ध्यान में रखते हुए यहां सचिन पायलट को रणनीति तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी है.

पिछले दिनों कांग्रेस द्वारा मध्य प्रदेश उपचुनाव के लिए जारी की गई 30 स्टार प्रचारकों की लिस्ट में भी सचिन पायलट का नाम शामिल है.


मार्च में कांग्रेस के 22 MLA इस्तीफा देकर BJP में हुए थे शामिल

बता दें कि इसी साल मार्च में कांग्रेस के 22 विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया के कहने पर पाला बदलकर बीजेपी में शामिल हो गए थे. इससे कांग्रेस की तत्कालीन कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी जिसके बाद राज्यपाल ने सदन में बहुमत परीक्षण करवाने के निर्देश दिया था. मगर इससे पहले ही कमलनाथ ने सीएम हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के लिए तीन नवंबर को उपचुनाव होने हैं. जबकि वोटों की गिनती 10 नवंबर को होगी.