प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज एक बार फिर राष्ट्र के नाम संबोधन होने जा रहा है. देश में कोरोना वायरस के मामलों की बढ़ती रफ्तार और सीमा पर चीन के साथ जारी तनातनी के बीच होने वाले इस संबोधन पर हर किसी की नज़र है. देश में जब से कोरोना वायरस का संकट आया है, तब से अबतक प्रधानमंत्री ने कई अहम मौकों पर देश को संबोधित किया है. आज होने वाला उनका संबोधन ये छठा होगा. इससे पहले जनता कर्फ्यू के ऐलान से लेकर 20 लाख करोड़ के पैकेज तक पीएम ने राष्ट्र को संबोधित किया है.

कोरोना संकट में कब-कब राष्ट्र के नाम संबोधन?

19 मार्च: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट पर पहली बार इसी दिन देश को संबोधित किया था. इस दिन जनता कर्फ्यू का ऐलान किया गया था, जो 22 मार्च को रखा गया.

24 मार्च: दूसरे संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में लॉकडाउन का ऐलान किया. जो 25 मार्च से शुरू हुआ और 21 दिन तक के लिए लगाया गया.

3 अप्रैल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन में लोगों से दीया जलाने की अपील की. देश में कोरोना वॉरियर्स के सम्मान में रात को नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाया गया.
14 अप्रैल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में लॉकडाउन 2.0 का ऐलान किया, जो कि 3 मई तक जारी रहा. इसके बाद के सभी लॉकडाउन गृह मंत्रालय की ओर से लगाए गए.
12 मई: प्रधानमंत्री ने आखिरी बार 12 मई को संबोधन दिया था, जिसमें उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था. इसके तहत देश के छोटे व्यापारियों, श्रमिक मजदूरों, गरीबों को आर्थिक मदद, लोन की मदद का ऐलान किया गया.

30 जून: अब आज शाम को चार बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के नाम अपना संबोधन देंगे.

आपको बता दें कि देश में कोरोना वायरस के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं और ये संख्या 6 लाख के करीब पहुंच गई है. इस बीच सोमवार को ही सरकार ने अनलॉक 2 की जानकारी साझा की है.