पेशावर। मानवाधिकार कार्यकर्ता अमजद अयूब मिर्जा ने चीन के साथ संबंधों और वित्तीय संकट को लेकर पाकिस्तान की खिंचाई की और कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान वर्तमान में डूबते जहाज के कप्तान हैं। मिर्जा ने कहा कि चीन ने अपने हितों के लिए पाकिस्तान को ऋण जाल में फंसा रखा है। इसके अलावा चीन पाकिस्तान में स्थित आईएसआई समर्थित लश्कर ए तैयबा जैसे आतंकवादी समूहों की रक्षा कर रहा है। लश्कर मुंबई 2008 के हमलों के लिए जिम्मेदार था। चीन ने अफगानिस्तान के हिज्ब ए इस्लामी के साथ सीधे संपर्क और गुप्त राजनयिक संबंध स्थापित किए हैं जो कि जमीयत ए इस्लामी पाकिस्तान की संगठन है। इसके अलावा चीन पाक के जरिए तालिबान को हथियार सप्लाई कर रहा है! उन्होंने कहा कि मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की गिरफ्तारी भी दुनिया की आंखों में धूल के अलावा और कुछ नहीं है । मिर्जा ने कहा है कि अगर पाकिस्तान अगर सच में आंतकवाद मुक्त देश बनना चाहता है तो उसे आतंकवादियों को भारत को सौंप देना चाहिए। अपने ऑनलाइन चैनल द हॉट इशू पर बोलते हुए मिर्जा ने कहा, यह पहली बार नहीं है कि हाफिज को पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया है। हर बार जब वैश्विक दबाव बढ़ता है तो पाकिस्तान ऐसे लोगों को जेल में डाल देता है जो और उन्हें 5-सितारा होटलों जैसी सुविधाएं मुहैया करवाता और फिर मामला ठंडा होने पर उन्हें फिर से मुक्त कर देता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में 50 से अधिक वांछित भगोड़े छिपे हुए हैं या रहते हैं। उन्होंने जिहादी आतंकवादियों के साथ चीन के गुप्त संबंधों के पीछे का दो कारण बताए। एक चीन गारंटी चाहता है कि अफगानिस्तान में उनकी परियोजनाएं आतंकवादियों का लक्ष्य नहीं होंगी और दूसरा बात वे उइगर मुसलमानों का मुद्दा नहीं उठाएंगे और इस जिहाद में उनका समर्थन करेंगे। बता दें कि 2000 में पाकिस्तान में चीनी राजदूत लू शुलिन ने अफगानिस्तान के अमीर मुल्ला उमर के के साथ उइगुर समर्थन के मामले पर चर्चा करने के लिए खुद अफगानिस्तान का दौरा किया था। मिर्जा ने कहा कि चीन ने समय-समय पर दिखा दिया है कि अगर जरूरत पड़ी तो वह अपने भू-आर्थिक और राजनीतिक हितों को सुरक्षित करने के लिए पाकिस्तान को भी दरकिनार कर देगा। पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था को संकट में डालने के लिए भ्रष्टाचार की भूमिका पर उन्होंने कहा कि सैन्य जनरलों और इमरान खान द्वारा भ्रष्टाचार के मुख्य कारणों चीनी और आटा माफिया की के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया है। भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद के कारण ही अर्थव्यवस्था में गिरावट आ रही है।