उमरिया. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के उमरिया (Umaria) जिले के बांधवगढ़ में बफर जोन के महावन सहित दर्जनों गांव में बाघ और जंगली हाथियों के आतंक से ग्रामीणों का जीना मुश्किल हो गया है. दहशत से घरों में ही लोग दुबक गए हैं. जंगली हाथियों के आतंक से परेशान बफर एरिया का महावन एकलौता गांव नही है, जंहा ग्रामीणों का जीना हराम हो. बल्कि सेहरा, पिपरिया, बिलाईकाप ऐसे दर्जनों गांव हैं, जंहा कभी हाथी तो कभी बाघ की दस्तक ग्रामीणों की नींद हराम किये रहते हैं. आलम ये हो गया है कि किसानों की फसल तबाह तो है ही. कई बार बाघ की मौजूदगी से ग्रामीणों को घरों में दुबकना पड़ता है.

स्थानीय निवासी खेलावन सिंह, मंगल सिंह व अन्य ग्रामीण कहते हैं कि गांव में हाथियों व बाघ के कारण दहशत का माहौल है. वन विभाग को कई बार इस संबंध में सूचना दी गई, लेकिन कोई ठोस पहल अब त​क नहीं की गई है. इससे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. कई बार ग्रामीणों को अपनी जान भी गवानी पड़ती है.

हाथी ने मार डाला
जंगली माहौल में रचे बसे वनवासियों में ये दहशत सेहरा गांव की घटना से भी है जंहा पिछले महीने खेत की रखवाली में तैनात किसान को हाथी ने कुचलकर मार डाला था. हाल ही में कोर एरिया की टी-42 नामक बाघिन भी अपने चार शावकों के साथ महावन गांव की सीमा पर ही डेरा डाल दिया है. इससे ग्रामीणों में दहशत का माहौल था. बांधवगढ़ निरीक्षण को पहुंचे पीसीसीएफ आलोक कुमार का कहना है कि घटनाओं की जानकारी उन्हें मिली है. ग्रामीणों की हर संभव मदद की जा रही है. बहरहाल बांधवगढ़ में यंहा के हिंसक वन्यजीवों के साथ इलाके में तीन साल से सक्रिय उड़ीसा से आया. हाथियों का बड़ा झुण्ड पार्क से लगे गांव ग्रामीण और किसानो के लिए किसी आफत से कम नहीं.